Tag: Female health supplements

Women Care Through Ayurvedic Herbs

Abstract

Women experience severe health issues and conditions ranging from gynecological problems such as uterine fibroids, PCOD, etc. to pregnancy. Nowadays people are more involved so much in their professional lives that they don’t even find time to look after their health and body. This results in menstrual irregularities, urinary tract infections, etc. which further leads to other conditions. For this, our mother nature has provided us with natural herbs that maintain our health naturally and keep us away from diseases.

Ayurveda and Women Health

Ayurveda (the science of life) had offered the wisdom of natural healing by balancing body rhythms accordingly. It has been explained by Ayurveda that women’s health conditions like the menstrual cycle, fertility, etc. depends on the balance in the circadian clock, the flow of apana and prana into the reproductive organs, hormonal balance, lymphatic system, and digestive system. According to medical records, more than 70% of females go through severe medical conditions globally. They are more likely to get affected with neurological and other physical problems as compared to men.

Women Health and Ayurveda

Ayurvedic Herbs and its Benefit on women Health

Ayurvedic Herbs have always been a foundation of the traditional system of medicine i.e. Ayurveda and about 90% of the formulations are plant-based. These can effectively stabilize psychological and physical balance in the body. Some of the herbs mentioned below are beneficial for maintaining women’s health.

Let’s Discuss Them!!

1 Guduchi (Tinospora cordifolia)

Guduchi’s stem is the most common component in various Ayurvedic formulations due to its versatile actions. It effectively calms and has a soothing effect on Vata dosha. This herb also has anti-inflammatory and anti-diuretic properties.

2  Shatavari (Asparagus racemosus)

Shatavari is considered as an essential herb when it comes to women’s health as it is a natural aphrodisiac agent and it manages various problems which occur during menopause, menstruation, and lactation.

3 Licorice (Glycyrrhiza Glabra

Licorice has been used since ages in traditional Ayurvedic medicine preparation for the management of menopause, urinary disorders, and genital problems. This herb works magically in balancing hormones and acts as a natural tonic which effectively stimulates adrenal glands. Licorice is an amazing anti-inflammatory and antiviral agent which makes it beneficial in controlling inflammation.

4  Ashwagandha (Withania somnifera)

Ashwagandha helps in combating anxiety, stress, and induces proper sleep which maintains equilibrium in mental health and physical health. This herb enhances and strengthens vitality by improving blood circulation. Moreover, ashwagandha is also known as Indian ginseng that provides strength to bones and muscles.

5 Amalaki (Phyllanthus niruri)

Amalaki or Indian gooseberry is loaded with photochemical components like triterpene lupeol, flavonoids, polyphenols, etc. This constitution makes it useful in reducing symptoms of various diseases such as dizziness, hepatitis, premature aging, and hyperacidity. It has been studied that decoction of this herb is very beneficial in the treatment of menorrhagia, anemia, hemorrhoids, and other bleeding disorders.

6 Manjistha (Rubia cordifolia)

According to research, problems related to the menstrual cycle are caused due to a congested lymphatic system. As lymph and blood start in the body is not properly detoxified; it will affect the overall health. In these cases, manjistha is the best option for supporting the female reproductive system due to its blood purifying properties.

Ayurvedic Supplements from Planet Ayurveda for Women Health

Planet Ayurveda is offering Natural Supplements for Women’s Health which are manufactured in a sterilized environment and under the strict supervision of MD Ayurveda.

Product Description

1 Shatavari Capsules

Shatavari capsules from Planet Ayurveda are an amazing herbal supplement that is beneficial in supporting overall women’s health. These capsules have been formulated from pure and standardized extract of Asparagus racemosus (Shatavari). Shatavari is a wonderful herb in balancing hormones and managing hot flushes which occurs during the pre-menopausal phase. This promotes lactation in mothers and removes general weakness in females. These capsules are very useful in reducing fatigue, anxiety, painful menstruation, and improving bone density. Shatavari capsules are very helpful in maintaining overall female health and general well-being.

Dosage– 1-2 capsules a day with plain water after meals.

2 Amalaki Rasayan

Amalaki rasayan contains a richness of Indian gooseberry (Emblica officinalis) which is considered as a Rasayan. This tremendous herb is a storehouse of Vitamin C, nutrients and can be a really good substitute as a food supplement. Amalaki is an aphrodisiac and laxative agent which nourishes the body naturally. This herbal product fights against hypertension, diabetes, and effectively manages various neurological conditions. It helps in preventing signs of anti-aging like wrinkles and premature graying of hair overall it acts as an anti-aging supplement.

Dosage– 1-2 capsules two times a day with plain water after meals.

natural supplements for women's health

Herbal Remedies for Women Health

3 Curcumin Capsules

Curcumin capsules are another amazing formulation from Planet Ayurveda which contains a standardized extract of curcumin, a bioactive compound present in turmeric (Curcuma longa). Curcumin is loaded with anti-cancer, anti-hypersensitive, and anti-inflammatory properties. These capsules are a great supplement that helps in blood purification and protects us from the damage caused by free radicals. It promotes milk secretion in mothers and improves the overall health of new mothers. Moreover, turmeric has been used for ages for glowing and radiating skin. Curcumin capsules can be used as an anti-aging supplement which is 100% natural and safe.

Dosage- 1-2 capsules daily with plain water after meals.

4 Kanchnaar Guggul

This natural product has been prepared from various herbs like Kanchnaar (Bauhinia variegata), Haritaki (Terminalia chebula), Amalaki (Emblica officinalis), Ginger (Zingiber officinale), Black pepper (Piper nigrum), Guggul (Commiphora mukul), etc. Kanchnaar guggul is an amazing Ayurvedic preparation that can help to manage obesity, hypothyroidism, polycystic ovarian syndrome (PCOS), cysts, fistula, and various skin diseases and infections. It is very effective in detoxifying the system which allows the body to revitalize and nourish. Guggulu in this herbal combination maintains the healthy cholesterol levels by purifying the blood. This herbal supplement also regulates the functioning of the thyroid gland and enhances the glandular functioning efficiently.

Dosage- 2 tablets twice a day with plain water after meals.

Conclusion

A woman is one of the most wonderful creatures on earth who has been balancing everything at home or the workplace with their constant and selfless efforts. So this is the message to every woman out there that is fighting for daily life that they need to take care of themselves too. Apart from nutritional requirements and daily work out sessions, you need to choose the right herbal supplement for adequate balance.

Diet and Nutrition Tips to Promote Women Health(महिलाओं के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले प्राकृतिक उपाय)

आयुर्वेद के अनुसार

आयुर्वेद के अनुसार किसी भी उम्र में सबसे अच्छा दिखने और महसूस करने के लिए एक स्वस्थ शरीर और स्वस्थ दिनचर्या का होना बहुत जरूरी है।आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार महिलाएं पुरुषों की तुलना में बहुत कम भोजन करती हैं, वे पुरुषों की अपेक्षा कम प्रोटीन खाती हैं, और जिसकी वजहसे उनको मासिक चक्र में अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता हैं। महिलाओं को अपने परिवार की देखभाल करते समय खुद के लिए अलग समय निकालना बहुत मुश्किल लगता है।

एक शोध के अनुसार उम्र के साथ महिलाओं की सेहत में बदलाव आता है। 40 वर्ष की आयु में महिलाओं के शरीर में हॉर्मोन असंतुलित होने लगते हैं।अगर आप चाहती हैं की आपका शरीर स्वस्थ और बिमारियों से मुक्त रहे तो इसके लिए आपको नीचे सूचीबद्ध दिशानिर्देशों का पालन करना बेहद लाभकारी साबित होगा।

Ayurvedic Tips for women health

इस लेख में हम महिलाओं के स्वास्थ्य को दुरुस्त रखने के कुछ प्राकृतिक उपायों के बारे में जानकारी प्राप्त करेगें

दिनचर्या में परिवर्तन जरूरी :

आयुर्वेद के अनुसार स्वस्थ रहने और महिला स्वास्थ्य को बढ़ावा देने के लिए शरीर में वात दोष का संतुलित रहना जरूरी है । शरीर के अंदर वात दोष को एक नियमित दिनचर्या होने से संतुलित रखा जा सकता है जैसे जल्दी जागना और जल्दी सो जाना । नियमित भोजन के समय को शामिल करना और बीच में भोजन न छोड़ना महत्वपूर्ण है। इससे वात दोष नियंत्रित रहता है और मेधा शांत और स्वस्थ बनी रहती है। आयुर्वेद के अनुसार हमेशा ताजा गर्म पका हुआ भोजन सेवन करना लाभदायक होता है ।

स्वच्छ और संतुलित आहार का उपयोग :

आयुर्वेद के अनुसार अच्छे स्वास्थ्य के लिए संतुलित पौष्टिक आहार का होना बहुत जरूरी है। ताजे मौसमी फल और हरी सब्जियां संतुलित आहार सूची में सबसे ऊपर हैं।एक शोध के अनुसार साबुत अनाज, उच्च फाइबर खाद्य पदार्थ, मांस, कम वसा वाले डेयरी उत्पाद का सेवन करना महिलाओं को स्वस्थ और बिमारियों से मुक्त रखने में मददगार साबित होता । इन सभी के अलावा पेय पदार्थ , अत्यधिक नमक और अत्यधिक वसा से दूर रहना बहुत लाभदायक होता है। महिलाओं को मल्टीविटामिन और कैल्शियम से भरपूर भोजन का सेवन करना फायदेमंद होता है ।आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार 50 से कम उम्र की महिलाओं को एक दिन में 1000 मिलीग्राम कैल्शियम की जरूरत होती है, जबकि 50 से अधिक उम्र की महिलाओं को एक दिन में 1200 मिलीग्राम कैल्शियम की जरूरत होती है, जो कि देसी गाय के दूध, बादाम और देसी गाय के घी से प्राप्त किया जा सकता है।

तनाव से रहें दूर :

तनाव का स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। यह प्रभाव महिलाओं की बांझपन की समस्या से लेकर अवसाद, चिंता और हृदय रोगों तक हो सकते हैं। महिलाएं दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों से अधिक तनाव से गुजरती हैं। इस लिए एक बार आराम करना बहुत महत्वपूर्ण होता है। एक महिला के लिए अपने शौक को आगे बढ़ाने या कुछ ऐसा करना बहुत ज़रूरी है जिससे उसे आनंद मिले। तनाव से मुक्त रहने के लिए ध्यान लगाना , मालिश करना और योग का अभ्यास करने जैसी तकनीकों का पालन किया जा सकता है। महिलाओं को अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए पर्याप्त नींद लेना बहुत जरूरी है। हर समय खुश रहने की कोशिश करें ऐसा करने से यह आपको समय से पहले बूढ़ा होने से बचाएगा क्योंकि यह शरीर में तनाव हॉर्मोन ,कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है। एक शोध के अनुसार जोर से हंसने से एंडोर्फिन निकलता है जो रक्त परिसंचरण को तेज कर देता है और शरीर को आराम प्रदान करने में सहायक होता है ।

Stress Management

बुरी आदतों से दूर रहें :

आयुर्वेदिक चिकित्सा के अनुसार ड्रग्स, धूम्रपान, शराब महिलाओं के स्वास्थ्य को बहुत ज्यादा प्रभावित करते हैं। कम मात्रा में शराब का सेवन उचित है लेकिन अधिक मात्रा में शराब का उपयोग करना महिला स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। कैफीन का सेवन हानिकारक होता है ।यह महिलाओं की प्रजनन क्षमता को प्रभावित करती है

रक्तहीनता :

एक शोध के अनुसार समान आयु वर्ग के पुरुषों की तुलना में महिलाओं में एनीमिया यानि रक्तहीनता अधिक आम समस्या है। यह शरीर में लोहे की कमी के कारण होती है। रक्तहीनता होने से महिलाओं में कई समस्याएं हो जाती हैं जैसे बालों का झड़ना, थकावट, सहनशक्ति की कमी और भी अनेक समस्याएं ।महिलाओं को अपने आहार में लोहे से भरपूर नट्स, सेब, चुकंदर, पालक, आंवला और अन्य खाद्य पदार्थों को शामिल करना बहुत महत्वपूर्ण साबित होता है। लोहे के अवशोषण को बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका है नींबू के रस के साथ एक सेब का सेवन

ब्रेस्ट कैंसर को स्वतः कैसे चेक करें :

आयुर्वेद के अनुसार महिलाओं को अपने स्तनों में किसी भी बदलाव को दिखने पर उन पर ध्यान देना चाहिए और जरूरत पड़ने पर डॉक्टर से सलाह लें।एक शोध के अनुसार 40 से ऊपर की महिलाओं के लिए एक वार्षिक मैमोग्राम जाँच से पता लगाया जा सकता है क्योंकि यह स्तन कैंसर का पता लगाने का एक प्रभावी तरीका माना जाता है।

आयुर्वेद के अनुसार हर 3 साल में पैप टेस्ट करवाना जरूरी :

अगर महिला को सर्वाइकल कैंसर के बारे में जानना है तो उसकी जांच के लिए 21 साल से अधिक उम्र की महिलाओं को हर 3 साल में पैप टेस्ट करवाना चाहिए। यौन रूप से प्रभावित लोगों को क्लैमाइडिया, गोनोरिया, सिफलिस, एचआईवी जैसे एसटीडीज के लिए वार्षिक परीक्षण करवाना जरूरी होता है। स्वस्थ रहने के लिए एक वार्षिक शारीरिक जांच जरूरी है।

महिलाओं के स्वास्थ्य को बढ़ाने के लिए प्राकृतिक जड़ी बूटियां :

आयुर्वेद के अनुसार कुछ जड़ी-बूटियों का अगर रोजाना सेवन किया जाए हैं तो वे महिलाओं के स्वास्थ्य में सुधार करने में मददगार होती है। ऐसी ही एक जड़ी बूटी है शतावरी। यह महिला प्रजनन प्रणाली को मजबूत करता है और हार्मोनल असंतुलन को भी नियंत्रित करता है।आयुर्वेद के अनुसार महिलाओं में कमजोरी को दूर करने के लिए यह जड़ी बूटी बहुत प्रभावी मानी जाती है।

आयुर्वेद के अनुसार महिलाओं के लिए अत्यधिक फायदेमंद अन्य जड़ी-बूटियाँ हैं

अमलाकी / आंवला और अशोक

आंवला शरीर के अंदर तीनों दोषों को संतुलित करने और पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने में सहायक साबित होता है।

ध्यान देने योग्य बात :

महिलाओं को अपने भोजन में वसा की मात्रा को संतुलित रखना बहुत जरूरी होता है क्योंकि यह होर्मोनेस को असंतुलित कर देती है है जो बाद में स्त्रीरोग संबंधी अनेक समस्याओं का कारण बन सकता है।